Bmc की नई टेक्नोलॉजी से मुंबई में बारिश से जल जमाव हो सकता है समाप्त? जानिए क्या है। यह टेक्नोलॉजी।

मुंबई में बरसात के समय जल जमाव की समस्या एक आम बात हो चुकी है। आम तौर पर मुंबई में पहली बरसात में कई इलाकों में घटने तक जल जमाव के समस्या देखी गई है जिसके कारण यातायात पूरी तरह से प्रभावित होता है। हाल ही में तौक्ते तूफान के कारण मुंबई से सटे वसई विरार छेत्र में जल जमाव की समस्या का सामना करना पड़ा था कुछ सोसाइटी में पानी इसतरह जमा हो गया कि ग्राउंड फ्लोर में रहने वाले परिवारों को घर खाली कर स्थान्तरण करना पड़ा।

इसी समस्या को देखकर मुंबई महानगरपालिका ने जल जमाव के संकट को दूर करने के लिए भूमिगत टैंक बनाने का निर्णय लिया गया। ये बड़े भूमिगत टैंक कम से कम 3 घंटे तक बारिश के पानी को जमा कर संकेंगे और ज्वार और मूसलाधार बारिश में पानी की जमाव को काफी कम कर देंगे। यह परियोजना उन विशिष्ट क्षेत्रों में भी लागू की जाएगी जहां मुंबई में भारी बारिश के कारण पानी जमाव होता है। –

आदित्य ठाकरे संघ, नगरसेविका उर्मिला पांचाल, AMC वेलारासु और HE विभाग के इंजीनियरों के साथ, प्रमोद महाजन उद्यान, हिंद माता फ्लाईओवर, सेंट जेवियर्स ग्राउंड में चल रहे कार्यों का दौरा किया गया, मैं व्यक्तिगत रूप से हिंद माता क्षेत्र में मानसून होल्डिंग टैंक के लिए उत्सुक रहा हूं- आदित्य ठाकरे

भूमिगत टैंक पहले की तरह शहरी परिदृश्य के साथ शीर्ष पर आच्छादित होंगे और सतह पर अदृश्य होंगे। @mybmc ने मुंबई में जलजमाव की आशंका वाले क्षेत्रों के लिए ऐसी और संभावित साइटों की तलाश शुरू कर दी है जहां भौगोलिक और भारी बारिश से पंपों द्वारा पानी निकाला जाता है।